☀ ♥ जुलाई , 2022: दिन - : शुद्ध हवा , शुद्ध पानी और चारों तरफ हरियाली। इन्हीं से हैं , मानव जीवन में खुशहाली।। ♥☀ ♥

रविवार, 28 अगस्त 2016

उत्तर-दायित्व

Uttar-Dayitva in Hindi

क्या हमारे कर्म हमारे व्यक्तित्व का निर्धारण करते है  ? ये तो मुझे नहीं पता , पर इतना जरूर जानती हूँ कि हम जैसा कर्म करते है हमारी  पहचान भी वैसी ही बनती चली जाती है। हमारे बुजुर्गों ने ये बात तो 16 आने सही कही है कि व्यक्ति केवल दो तरह के कार्यों को करके ही ज्यादा नाम काम सकता है या तो उसके  कर्म बहुत अच्छे हों या फिर बहुत ही बुरे। अब तो हमें खुद से ही निर्णय लेना है कि हम  किस पंक्ति में खड़े होना चाहते हैं। हम जब  भी कोई कार्य  करते है तो पहला प्रश्न उठता है कि ये किसका बेटा /बेटी है  और कौन इनके माता पिता होंगे। जब भी हम किसी के प्रति गलत व्यवहारों को अपनाते है तो प्रश्न हमारे माता - पिता के संस्कारों पर उठता है और लोग ये सोचने के लिए मजबूर हो जाते है उनके माता पिता भी इसी प्रवृति के होंगे , जिससे उनका बच्चा ऐसा है। 

सुनो सुनो सुनो ....
×

यदि आप अपनी रचना 'एक नई दिशा' पर प्रकाशित करना चाहते हैं, तो अपनी रचना के साथ हमें ई-मेल करें – eknaidisha2021@gmail.com ...