☀ ♥ दिसंबर , 2022: दिन - :: : "'संख्या अगणित बढ गई , वाहन का अति जोर। पर्यावरण बिगड़ रहा, धुँआ घुटा चहुँ ओर !"♥ ♥ ♥☀ ♥

शनिवार, 12 फ़रवरी 2022

बारिश

 

BAARISH IN HINDI - EK NAI DISHA


हैलो मेरे प्यारे मित्रों ! इतने विराम के बाद, मैं फिर आपके समक्ष एक स्टोरी लेकर आई हूँ। ये स्टोरी प्यार के बारे में है।

हम सभी ने कभी न कभी, किसी न किसी से जरूर प्यार किया होगा। कुछ लोगों की यादें मीठी हैं और कुछ लोगों के अनुभव बहुत ही कढ़वे हैं। पर भई ! प्यार तो प्यार है, ना चाहते हुए भी हो जाता है और प्यार ना तो जानबूझकर किया जाता है। ये तो बस हवा के झोंके की तरह आता है और दिल को मजबूर कर देता है। उस शख्स अच्छाईयों की तरफ हम खिंचतें चले जाते हैं। प्यार के इसी सुखद एहसास पर मेरी इस छोटी स्टोरी को पढ़ें और अपनी राय मुझे कमेंट के रूप में अवश्य सुझाएँ।

नताशा बचपन से ही बारिश की बूँदों से बहुत प्यार करती थी। जब भी बारिश होती वह भीगने को निकल पड़ती- ना जगह देखती और ना ही समय। बस खो जाती उन बारिश की बूँदों में। एक बार तो सर्दी का मौसम था और थोड़ी बारिश भी हो रही थी। अजी ! मौसम का क्या भरोसा। पर नताशा खुद को रोक ना सकी और बस वही हुआ, जिसका डर था। अरे भाई ! सर्दी-जुकाम की बात मैं नहीं कर रही, लेकिन उस प्यार की, जिससे नताशा बिल्कुल अनजान थी।

जब वह बारिश से भीग रही थी, तभी उसके सामने एक कार आ कर रूकी। नताशा कुछ समझ पाती कि कुछ लोग ने उसको कार में अन्दर खींचने की कोशिश करने लगे। तभी उसने देखा कि सामने से एक बाइक आई। उसने उसे अपनी ओर खींचा और तभी कार में बैठे शख्स का सर कार के डैशबोर्ड से  टकराया और कार ने सन्तुलन खो दिया। कार में सवार लोगों को काफी चोट आई। कार-सवार का इलाज तो हुआ और बाद में जेल भी, पर बचाने वाले शख्स का पता नताशा को नहीं चल सका। 

नताशा ने बहुत कोशिश की पर कुछ भी पता नहीं चल सका। फिर एक दिन उसने देखा कि एक वीडियो सोशल-मीडिया पर बड़ी जोर-शोर से वायरल हो रहा है, उसने उस वीडियो के जरिये कोशिश की, कि उस शख्स को एक बार दिल से आभार व्यक्त करे। फिर एक दिन फेसबुक के जरिये नताशा ने उसे ढूँढ निकाला।

वरूण नाम था उस शख्स का। फ्रैंड रिक्वेस्ट भी एक्सेप्ट हो गया था। पर जिस वरूण से वो मिलना चाहती थी, वो शख्स वो वरूण नहीं था। फिर एक दिन चैट करते-करते  उसे एक फोन नम्बर मिला। उसने वरूण से बात की। 

नताशा और वरूण अब दोनों अब अपनी जिन्दगी की हर बात शेयर करने लगें। नताशा की तो वरूण जैसे जान ही बन गया, इतना अच्छा शख्स जो था वरूण। आर्मी में भर्ती हो ही चुकी थी वरूण की। बस कुछ दिनों की छुट्टी को परिवार के साथ बिताने आया था। एक दिन वरूण ने बताया- माँ बहुत बीमार है पर मुझे वापस जाना ही होगा। दो दिन की छुट्ठी बची है। माँ चाहती है कि पिताजी के पसन्द की लड़की से शादी करके ही वापस जाऊँ, पर मैंने माँ से बात कर ली है, मैं तुम्हें लेने आ रहा हूँ । तुम्हें उनसे मिलाकर हम दोनों के प्यार व शादी करने की बात बता दूँगा। बस तुम मुम्बई एयरपोर्ट पर दो घण्टे के अन्दर पहुँचो, समय कम है। मैं तुम्हें खोना नहीं चाहता।

नताशा भी अपने माँ से बात कर घर से निकली पर एयरपोर्ट तक कभी पहुँच ही नहीं पाई। उस दिन ना जाने ईश्वर को ही मन्जूर नहीं था, उन दोनों का साथ होना। उस दिन इतनी जोर की बारिश हुई कि सारे रास्ते ठप पड़ गये, ना ही फोन से बात हो पाई। शाम के ढ़लते ही नताशा घर लौट आई, पर बारिश ने थमने का नाम ही नहीं लिया।

आज वरूण की शादी के दो साल हो गये। वो ना चाहते हुए भी विवाह के बन्धन में बँध गया। नताशा आज बारिश की बूँदों से बेहद नफरत करती है। आज इनकी वजह से उसका प्यार अधूरा रह गया, पर उसने अपनी जिन्दगी को थमने नहीं दिया। शादी नहीं की पर आज एक सरकारी स्कूल की शिक्षिका बन बच्चों को अच्छे संस्कारों का पाठ पढ़ा रही है। 

वरूण और नताशा का प्यार तो अधूरा ही रह गया, पर उन्होंने अपनी वास्तविकता से मुँह नहीं मोड़ा और परिवार और समाज के प्रति अपने उत्तरदायित्वों का बखूबी निर्वाहन किया।

मेरा मानना है कि जो होता है ईश्वर की मर्जी से होता है। यदि नियति को हम ना बदल सकें तो हमें नियति के हिसाब से खुद को बदल लेना चाहिए।

आज की स्टोरी में इतना ही। 

अपना ख्याल रखें।

Image:Google

सोमवार, 8 अगस्त 2016

पहला प्यार

Pehla Pyar in Hindi

क्या होता है प्यार ? इसकी  एक अद्धभुत छवि हमारे मन-मस्तिष्क में हमेशा विद्यमान रहती है और जब 'प्यार' लब्ज़ हमारे कानों में पड़ता है तो  हमारी इन्द्रियाँ भावुक हो जाती हैं, हमारा हृदय कोमल हो जाता है और बात  जब पहले प्यार की हो तब  ?  पहले प्यार के अहसास से शायद ही कोई शख्स अछूता होगा। इस पहले प्यार की  भावना ने सभी के दिल में कभी ना कभी दस्तक जरूर दी होगी। पहले प्यार की बात आते ही हम अपने अतीत को खंगालने में लग जाते हैं। इसकी स्मृतियाँ ना जाने कितने समय तक हमें घेरे रहती हैं। हमारे ह्रदय को कभी ना कभी इस पहले प्यार के अहसास ने जरूर छुआ होगा, जो हमारे अविस्मृत पल हैं , जिनको शायद भूला पाना  हमारे वश में नहीं है।  अगर ये पल  अच्छे होते हैं तो हमारे मन को सुकून पहुँचाते हैं और होठों को एक मुस्कुराहट दे जाते है। यदि बुरे अनुभव से हमारा वास्ता हुआ है, तो ये हमारे मन -मस्तिष्क  को कष्ट भी पहुँचा जाते हैं।

पर ये पहला प्यार आखिर में होता क्या है ? क्या दिल में किसी के प्रति  उठने वाली भावना को प्यार कहते हैं या फिर आकर्षण को ? क्या प्यार को उम्र के बंधन में बांधा जा सकता है ? नहीं ना। 

मंगलवार, 14 जून 2016

नफ़रत

Nafrat in Hindi


बात उन दिनों की है ,जब शेखर स्कूल में पढता था। वह पढाई में बहुत ही होनहार था। उसके जीवन में एक ही शख्स था और वो थीं उसकी दादी, जिनसे शेखर बेइंतहां नफरत करता था। उसके माता -पिता के गुजर जाने के बाद दादा और दादी ने शेखर को सम्भाला। जब शेखर मात्र 7 वर्ष का था, तभी दादाजी ने भी दुनियां को अलविदा कह दिया। अब महज शेखर की दादी ही थीं ,जो शेखर का ख्याल रखतीं थी।  पर ऐसी क्या वजह थी जो शेखर अपनी दादी माँ से इतनी नफरत करता था ? उसकी वजह  दादी का एक आँख का होना था। जिसके कारण शेखर के दोस्त उसे चिढ़ाते थे। शेखर के घर कोई भी दोस्त आना नहीं चाहते थे। शेखर का  दादी के प्रति नफरत दिन -ब -दिन बढ़ता  जा रहा था ।

एक दिन शेखर अपना टिफिन घर पर भूल गया  और  दादी शेखर को टिफिन देने के लिए शेखर के स्कूल चली गईं। फिर वही हुआ जिसका शेखर को डर  था। जैसे ही दादी स्कूल में आई, शेखर को दादी के जाते  ही
 बच्चे  चिढ़ाने लगे। शेखर को यह बाद इतनी बुरी लगी कि उसने घर आकर अपनी दादी से कह दिया कि आप भी दादा जी की तरह भगवान के पास क्यों नहीं चली जातीं ? मैं आपकी शक्ल भी नही  देखना चाहता हूँ।